कोरोना संकट में हमारी मदद करे अमेरिका

न्यूयॉर्क। अमेरिका और ईरान के बीच एक बार फिर से तल्खियां बढ़ने लगी है। ट्रंप ने नौसेना को आदेश दिया है कि ईरानी जहाज अगर समुद्र में उनके जहाज के लिए परेशानी खड़ी करते हैं तो उन्हें मार गिराएं और ध्वस्त कर दें।अमेरिकी सेना ने पिछले सप्ताह कहा था कि ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कोर‑नेवी के 11 जहाज खतरनाक तरीके से यूएस नेवी और कोस्ट गार्ड के जहाजों के बेहद करीब आ गए, जिसे उन्होंने खतरनाक और भड़काने वाला करार दिया।हालांकि, ट्रंप ने अपने ट्वीट में ईरानी जहाजों के किसी खास भड़काऊ गतिविधि का जिक्र नहीं किया है। लेकिन, ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के वाइस चेयरमैन एयर फोर्स के जनरल जॉन हातीन ने कहा कि उनका मानना है कि ईरान समझ रहा है कि ट्रंप के कहने का क्या मतलब है।अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के धमकी के जवाब में इरान ने कहा है कि पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस से जूझ रहा है। इस महामारी की वजह से हमारा देश मुश्किल हालात में है, ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति को हमें धमकाने के बजाए हमें इस वायरस से बचाने में मदद करनी चाहिए।अमेरिका और ईरान दोनों ही देश कोरोना से बेहद प्रभावित रहे हैं, लेकिन दोनों के बीच रिश्ते कभी सामान्य नहीं रहे हैं। समुद्र में दोनों देशों के बीच बने तनाव के बीच अमेरिका के सैन्य प्रमुखों ने ईरान पर भड़काऊ कार्रवाई करने का आरोप लगाया है।

144 Views

You cannot copy content of this page