कोरोना वायरसः दुबई, कुवैत, खाड़ी देशों की बदहाली से केरल का नुक़सान

केरल के कण्णूर ज़िले की रोसना एम दो साल पहले दुबई में अपने पति के साथ एक खुशहाल ज़िंदगी जी रही थीं.

लेकिन तभी संयुक्त अरब अमीरात की अर्थव्यवस्था में सुस्ती की शुरुआत हुई और वहां रह रहे केरल के कई लोगों को घर वापस लौटना पड़ा.

इस उम्मीद से कि वे एक रोज़ फिर वहां वापस जा पाएंगे. लेकिन उम्मीदों की वो फसल अब सूखती हुई दिख रही है.

कण्णूर के पल्लिकुन्नु में रोसना अपने घर पर दो बच्चों और बूढ़ी मां के साथ रहती हैं.

वो कहती हैं, “संयुक्त अरब अमीरात पर कोविड‑19 की महामारी की मार जिस तरह से पड़ी है कि मेरे पति की नौकरी तो हाथ से निकल ही गई है. हमें नहीं मालूम कि अब हमारा काम कैसे चलेगा. राज्य सरकार ने कुछ कदम तो उठाए हैं और अब हमारी एकमात्र उम्मीद राज्य सरकार के वादों पर टिकी हैं.”

132 Views

You cannot copy content of this page