लॉकडाउन से 90 प्रतिशत अपराधों में आई गिरावट

रायपुर। कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन ने देश सहित पूरी दुनिया के सिस्टम को उलट-पलट कर रख दिया है। इससे पुलिस थाने भी अछूते नहीं हैं। थाने में बनाए गए हवालाती कक्ष में अपाराध में शामिल किसी बंदी को महज कुछ घंटों के लिए रखा जा रहा है। गिरफ्तार अपराधी की एफआईआर दर्ज करने से लेकर सभी कानूनी कार्रवाई करने के बाद पुलिस उसे उसी दिन कोर्ट में पेश कर रही है।

पुलिस द्वारा किसी मामले में गिरफ्तार आरोपी को हवालात में ज्यादा देर नहीं रखने का कारण कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का खतरा है। इस बात को पुलिस ध्यान में रखते हुए गिरफ्तार आरोपी की पहले स्क्रीनिंग कराती है, उसके बाद हवालात में सोशल डिस्टेंस मेंटेन करते हुए अपराध के संबंध में आवश्यकता पड़ने पर पूछताछ करने के बाद कोर्ट में पेश करती है। साथ ही पुलिस आरोपी से जब्त सामान को सेनेटाइज करने के बाद जब्ती की कार्रवाई कर रही है। इसके साथ ही बंदी को कोर्ट ले जाने के समय पुलिस विशेष सावधानी बरत रही है। कोर्ट ले जाने के समय पुलिस, आरोपी से कम से कम एक मीटर का फासला रख रही है।

90 प्रतिशत अपराध कम

लॉकडाउन के बाद प्रदेश में 90 प्रतिशत अपराधों में गिरावट आई है। जो अपराध दर्ज हुए हैं, उसमें ज्यादातर मामले आबकारी एक्ट के साथ मोटर व्हीकल एक्ट के हैं। साथ ही एक‑दो जिलों में आधा दर्जन के करीब हत्या जैसे संगीन अपराध के मामले ही दर्ज हुए हैं। पुलिस अधिकारियों के अनुसार राज्य में प्रतिमाह पांच हजार शिकायतें, आवेदन मिलते हैं, इनमें से चार हजार मामलों में एफआईआर दर्ज की जाती है। शेष मामले आपसी सुलह से मौके पर ही सुलझा लिए जाते हैं या फिर पुलिस हस्तक्षेप योग्य नहीं होते।

अपराध में कमी आई

सिटी एएसपी पंकज चंद्रा ने कहा है कि लॉकडाउन के दौरान अपराध में कमी आई है, ज्यादातर मामले आबकारी एक्ट और मामूली मारपीट के मामले दर्ज हुए हैं। सुरक्षा की लिहाज से आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद उसकी स्क्रीनिंग कराई जा रही है। आरोपी की कानूनी कार्रवाई की लिखा पढ़ी जल्दी पूरी कर कोर्ट में पेश किया जा रहा है।

219 Views

You cannot copy content of this page