छत्तीसगढ़ में राजीव गांधी किसान न्याय योजना का शुभारंभ 21 मई को

 

कवर्धा 20 मई 2020। पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी के शहादत दिवस 21 मई के दिन छत्तीसगढ़ सरकार किसानों के लिए न्याय योजना शुरू कर रही है। दिल्ली से सोनिया गांधी और राहुल गांधी वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए इस योजना के शुभारंभ कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और मंत्रीमण्डल के सदस्यगण मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में दोपहर 12 बजे स्वर्गीय राजीव गांधी के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे। इसके पश्चात् किसानों को दी जाने वाली 5700 करोड़ रूपए की राशि में से प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि के कृषकों के खातों में ऑनलाईन अंतरण की जाएगी। कार्यक्रम में जिलों से सांसद, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, किसान और विभिन्न योजनाओं के हितग्राही भी वीडियो कांफ्रेसिंग से जुड़ेंगे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना किसानों को खेती-किसानी के लिए प्रोत्साहित करने की देश में अपने तरह की एक बडी योजना है। योजना के शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के मंत्रीगण, जनप्रतिनिधि और किसान वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए शामिल होंगे। वहीं कबीरधााम जिले के धान तथा गन्ना उत्पादक किसान भी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री बघेल वीडियों कांफ्रेसिंग के माध्यम से कबीरधाम जिले के धान,गन्ना और मक्का उत्पादक किसानों से सीधे बात भी करेंगे और उनके हाल‑चाल भी जानेंगे।

कबीरधाम जिले में राजीव गांधी किसान न्यास योजना के शुभांरभ की सभी तैयारियां कर ली गइ्र्र है। इस योजना के तहत कबीरधाम जिले के धान उत्पादक किसान 78 हजार 508 किसानों को 21 हजार 5 सौ 21 लाख रूपए और गन्ना उत्पादक किसान 19 हजार किसानों को 49 करोड़ रूपए की राशि चार किश्तों में सीधे उनके खातों में हस्तांतरित की जाएगी। योजना का शुभारंभ होते ही धान उत्पादक किसानों को इस योजना के तहत प्रथम किस्त 56 लाख 64 हजार रूपए डीबीटी के माध्यम से किसानों के खातों में पहुंच जाएगी। कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने कहा कि कोविड‑19 कोरोना वायरस के संक्रमण के बचाव के उपायों के तहत सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए जिले में इस योजना का बेहतर और प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन किया जाएगा।

अधिकतम 10 हजार रूपए प्रति एकड़ की दर से अनुपातिक रूप से आदान सहायता राशि दी जाएगी

राज्य सरकार इस योजना के जरिए किसानों को खेती किसानी के लिए प्रोत्साहित करने के लिए खरीफ 2019 से धान तथा मक्का लगाने वाले किसानों को सहकारी समिति के माध्यम से उपार्जित मात्रा के आधार पर अधिकतम 10 हजार रूपए प्रति एकड़ की दर से अनुपातिक रूप से आदान सहायता राशि दी जाएगी।

गन्ना उत्पादक 19 हजार किसानों को मिलेगा 49 करोड़ रूपए का फायदा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा किसानों की आर्थिक स्थिति प्रगति के लिए शुरू किए जा रहे राजीव गांधी किसान न्याय योजना से कबीरधाम जिले के दोनो शक्कर कारखाना भोमदेव शक्कर कारखाना और सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना के लगभग 19 हजार गन्ना उत्पादक किसानों को सीधा लाभ मिलेगां। इसी तरह गन्ना फसल के लिए पेराई वर्ष 2019–20 में सहकारी कारखाना द्वारा क्रय किए गए गन्ना की मात्रा के आधार पर एफआरपी राशि 261 रूपए प्रति क्विंटल और प्रोत्साहन एवं आदान सहायता राशि 93.75 रूपए प्रति क्विंटल अर्थात अधिकतम 355 रूपए प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किया जाएगा। किसानों के खाते में 49 करोड़ रूपए दिया जाएगा।

मक्का उत्पाद किसानों को भी मिलेगा लाभ

राज्य सरकार ने इस योजना के तहत खरीफ 2019 में सहकारी समिति लैम्पस के माध्यम से उपार्जित मक्का फसल के किसानों को भी लाभ देने का निर्णय लिया है। मक्का फसल के आकड़े लिए जा रहे है। जिसके आधार पर आगामी किश्त में उनको भुगतान किया जाएगा।

इस योजना में राज्य सरकार ने खरीफ 2020 से इसमें धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कोटकी तथा रबी में गन्ना फसल को शामिल किया है। सरकार ने यह भी कहा है कि अनुदान लेने वाला किसान यदि गत वर्ष धान की फसल लेता है और इस साल धान के स्थान पर योजना में शामिल अन्य फसल लेता हैं तो ऐसी स्थिति में उन्हें प्रति एकड़ अतिरिक्त सहायता दी जायेगी।

454 Views

You cannot copy content of this page