अनलॉक होती जिंदगी में ये तीन नियम ही देंगे आपको कोरोना के संक्रमण से मुक्‍ति

कोविड‑19 के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अनलॉक‑1 लागू होने के बाद से यह खतरा बढ़ गया है। ऐसे में संक्रमण को लेकर तनाव में आने से बचें। इस वक्त सरकार व समाज को मिलकर ही काम करना होगा। इस महामारी की रोकथाम के लिए विज्ञान के नियमों को मानना जरूरी है और कोरोना से बचाव के लिए भीड़ से दूरी ही सबसे अहम टॉनिक है। अनलॉक‑1 में जनता को काफी छूटें दी गई हैं, लेकिन कोरोना के संक्रमण का खतरा भी बरकरार है।

इससे बचने के लिए शारीरिक दूरी, पौष्टिक आहार और स्वच्छता का ध्यान रखना जरूरी है। अगर हम बचाव के सामान्य उपायों को गंभीरता से लें तो निश्चित ही संक्रमण से सुरक्षित रहेंगे… जानें क्‍या कहते है नई दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के प्रिवेंटिव एंड कम्युनिटी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष डॉ. जुगल किशोर।

मास्क बना जीवन का हिस्सा: बाहर निकलते समय अपना ख्याल रखना जरूरी है। जब तक कोरोना का संक्रमण बरकरार रहेगा, तब तक मास्क को अपने जीवन का हिस्सा बनाकर रखना होगा। आने वाले दिनों में इंफ्लूएंजा का संक्रमण भी होगा। इसलिए मास्क कोरोना के साथ‑साथ इंफ्लूएंजा से भी बचाएगा।

थूक में कई घंटे तक रहता है वायरस: हमारे देश में सार्वजनिक स्थानों पर थूकने की आदत एक सामाजिक बुराई है। यहां काफी संख्या में लोग पान मसाला, गुटखा व तंबाकू खाते हैं। जबकि यह कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसके बिना जीवन नहीं चल सकता। इसका सेवन छोड़कर संक्रमण को कम किया जा सकता है। इससे खुद के साथ‑साथ समाज का भी बचाव होगा, क्योंकि थूक में वायरस कई घंटों तक रहता है। इस वजह से दूसरों को कोरोना का संक्रमण होने का खतरा बना रहता है। धूमपान भी कतई न करें और यदि कोई धूमपान करता है तो उसे भी मना करें। वैसे भी सार्वजनिक स्थान पर धूमपान व थूकना गैरकानूनी है और इस पर जुर्माने का प्रावधान है।

जरूरी हो तो ही जाएं बाजार: कई लोगों को बाजार में घूमने की आदत होती है। बाजार में भीड़ अधिक होती है और शारीरिक दूरी के नियम का पालन आसान नहीं होता। बहुत जरूरी होने पर ही बाजार जाएं। अब तो शहरों में बहुत सारी चीजें ऑनलाइन उपलब्ध हैं। बेहतर होगा कि ऑनलाइन शॉपिंग का इस्तेमाल करें। अगर बाजार जाएं तो शारीरिक दूरी का विशेष ख्याल रखें।

ज्यादा घातक नहीं है वायरस: तमाम बचाव के उपायों को अपनाने के बावजूद यदि कोई संक्रमित हो भी जाए तो ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह वायरस बहुत ज्यादा घातक नहीं है। देश में ज्यादातर लोगों में हल्का संक्रमण देखा जा रहा है। हल्का संक्रमण होने पर घबराकर तत्काल अस्पताल जाने से बचें। यदि हल्का संक्रमण है तो पांच से सात दिन में यह बीमारी ठीक हो जाती है। इसलिए खांसी, जुकाम है तो घर में भी परिवार के अन्य सदस्यों से दूरी बनाकर रह सकते हैं। गले में खराश है तो गुनगुने पानी से गरारे करें। इसके अलावा भाप लें। यदि हल्का बुखार है तो उसकी दवा ले सकते हैं। यदि बुखार ज्यादा हो और सांस लेने में परेशानी होने लगे तो अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत है। इस तरीके से ही इस महामारी से पार पाया जा सकता है।

235 Views

You cannot copy content of this page