जुलाई माह में ईमारती और जलाऊ लकड़ी की नीलामी कर छत्तीसगढ़ शासन को दिया दो करोड़ 55 लाख 44 हजार रुपए का राजस्व

 

कवर्धा, 22 जुलाई 2020। मुख्य वन संरक्षक वन वृत्त दुर्ग  शालिनी रैना, भारतीय वन सेवा के मार्गदर्शन में 21 जुलाई को वन विभाग कवर्धा, वन मंडल द्वारा कवर्धा डिपो में इमारती लकड़ी के 206 लॉट तथा जलाऊ लकड़ी के 9 लॉट का टिंबर व्यापारियों को नीलामी कर एक करोड़ 19 लाख 83 हजार 950 रुपया का राजस्व शासन को दिया गया। इसी प्रकार 22 जुलाई को चिल्फी डिपो में ईमारती लकड़ी के 174 लॉट की नीलामी टिंबर व्यापारियों को नीलामी करके वन विभाग द्वारा एक करोड़ 33 लाख 60 हजार एक सौ रुपए का राजस्व शासन के पक्ष में प्राप्त किया गया। इन दोनों डिपो में जुलाई माह में की गई नीलामी से छत्तीसगढ़ शासन को 2 करोड़ 55 लाख 44 हजार 50 रुपए का राजस्व मिला है। दोनों डिपो में हुई ईमारती और जलाऊ लकड़ी की औसत नीलामी अपसेट प्राइस से लगभग 11 प्रतिशत ऊपर गई है।
कोरोना वायरस कोविड‑19 की विश्वव्यापी महामारी के दौरान प्रचलित कार्य योजना के अनुसार वनों के विकास, संवर्धन एवं संरक्षण के दृष्टिकोण से विदोहन योजना बनाकर वृक्षों का विनाश विहीन विदोहन से ना सिर्फ स्थानीय ग्रामीणों को रोजगार मिल रहा है साथ ही विभाग के माध्यम से शासन को राजस्व में भी सहायता मिल रही है। 22 जुलाई को चिल्फी डिपो में नीलामी के उपरांत वन मंडल अधिकारी दिलराज प्रभारक ने विभिन्न विभागीय कार्यों का क्षेत्रीय दौरा कर निरीक्षण किया। उनके द्वारा वन धन योजना अंतर्गत निर्माणाधीन हाट बाजार की कार्य प्रगति का निरीक्षण किया गया। वन मंडल अधिकारी द्वारा तरैया बहरा ग्राम जाकर शासन की मंशा के अनुरूप छत्तीसगढ़ परंपरागत उपचार पद्धति के संरक्षण, संवर्धन एवं सतत आजीविका का विकास कार्य के लिए चयनित स्थल का मौका स्थल पर जाकर निरीक्षण किया गया। नरवा योजना में मनरेगा मद से निर्मित ग्राम पगवाही के वन क्षेत्र में पगवाही नाला पर निर्मित स्टॉप डैम कार्यों का निरीक्षण किया गया। उनके द्वारा चिल्फी में आवर्ती चराई योजना क्षेत्र के अंतर्गत निर्माणाधीन कार्यों का निरीक्षण किया गया तथा मौका पर उपस्थित उप वन मंडल अधिकारी, परिक्षेत्र अधिकारी तथा स्थानीय परिसर रक्षक के साथ इस योजना से संबंधित विभिन्न कार्यों पर चर्चा की गई। वन मंडल अधिकारी के क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान उनके साथ उप वन मंडल अधिकारी कवर्धा उप वन मंडल, अधीक्षक भोरमदेव वन्य प्राणी अभ्यारण, परिक्षेत्र अधिकारी तरेगांव, परिक्षेत्र अधिकारी पश्चिम पंडरिया, परिक्षेत्र अधिकारी कवर्धा, डिपो अधिकारी तथा स्थानीय वन अमला उपस्थित थे।

298 Views

You cannot copy content of this page