यदि आप अपने जीवन, परिवार और समाज से करते है प्यार, तो कोरोना टेस्ट से न करें इंकार

कवर्धा, 15 सितंबर 2020। कोविड‑19 कोरोना वायरस के रोकथाम, नियंत्रण तथा उनके संक्रमण से बचाव के लिए उपायों को अपनाना चाहिए। करोनो वायरस के रोकथाम के लिए परिवार में किसी भी सदस्य को सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में कठिनाई, स्वाद एवं सूंघने की क्षमता का अभाव होने पर तत्काल कोरोना जांच करावाना चाहिए।


कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने जिले वासियों से अपील करते हुए कहा कि कोविड‑19 कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है। इस वायरस के संक्रमण को अपने सुझबूझ से शीघ्रगति से रोका जा सकता है। अगर किसी व्यक्ति को व उनके परिवार से अन्य सदस्यों को सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में कठिनाई, स्वाद एवं सूंघने की क्षमता का अभाव होने पर तत्काल कोरोना जांच करावाना चाहिए। कोरोना के टेस्ट से डरें नहीं, टेस्ट अवश्य कराएं। कोरोना होने पर डर से अपना स्वास्थ्य परीक्षण नहीं कराने पर कोरोना दूर नही होगा। अगर समय रहते हम संक्रमित व्यकित्यों की पहचान नहीं कर पाएंगे और समय रहते हुए चिकित्सा परामर्श से दवाइयों का सेवन नहीं कर पाएंगे तो इससे आपकी समस्या और बढेगी। अगर आस कोविड‑19 से संक्रमित नहीं है तो परीक्षण के बाद रिपोर्ट नेगेटिव ही आएगी अगर पाजेटिव आती है तो कोरोना होने पर आप सही समय पर दवाई लेकर स्वस्थ हो जाएंगे। आप अपने परिवार और समाज के लिए के लिए आवश्यक है। अभी तक कोरोना से जिनकी भी मृत्यु हुई है, उसका अन्य कारणों के साथ‑साथ समय टेस्ट नहीं कराना एवं समय पर उपचार नही करना भी एक महत्वपूर्ण कारण सामने आ रहा है। कलेक्टर ने कहा कि इसलिए अपने-अपने परिवार एवं समाज के हित मे कोरोना टेस्ट से डरने के बजाय कोरोना टेस्ट कराएं एवं शासन द्वारा कोरोना के नियंत्रण लिए जारी निर्देशों का पालन करें।
कलेक्टर शर्मा ने आमजनों से आग्रह है कि किसी व्यक्ति अथवा परिवार के किसी भी सदस्य को अगर कोरोना के लक्षण दिखाई दे रही है, तो तत्काल स्वास्थ्य विभाग अथवा टोल फ्री नम्बर 104 एवं जिले के दूरभाष नम्बर 07741232078 पर सूचित कर सकते है। कोरोना से बचने के लिए एसएमएस रूल को बहुत ही महत्वपूर्ण बताया है, जिसमें एस‑सोशियल डिस्टेंसिंग, एम‑मास्क लगाना तथा एस हाथों को बार‑बार सेनेटाईज करना है।

370 Views

You cannot copy content of this page