बीसीसीआई का एक्शन: साहा को धमकी देने के मामले में बोरिया मजूमदार पर कार्रवाई, बोर्ड ने लगाया दो साल का बैन

 

साहा को भारत की टेस्ट टीम से बाहर किए जाने पर मजूमदार ने उनसे इस मामले पर बात करनी चाही थी, लेकिन उनके मना करने पर मजूमदार भड़क गए थे और कभी इंटरव्यू न करने की धमकी दी थी। 

विस्तार

भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा को एक इंटरव्यू के लिए धमकाने वाले पत्रकार बोरिया मजूमदार पर बीसीसीआई ने दो साल का बैन लगा दिया है। बीसीसीआई ने इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यों की समिति का गठन किया था। समिति ने इस मामले में मजूमदार के दोषी पाया था और अब उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। साहा को भारत की टेस्ट टीम से बाहर किए जाने पर मजूमदार ने उनसे इस मामले पर बात करनी चाही थी, लेकिन उनके मना करने पर मजूमदार भड़क गए थे और कभी इंटरव्यू न करने की धमकी दी थी।

बैन लगने के बाद अब मजूमदार को किसी भी स्टेडियम के अंदर जाने की अनुमति नहीं होगी। बीसीसीआई से जुड़े किसी कार्यक्रम में उन्हें शामिल नहीं किया जाएगा। वहीं, सभी खिलाड़ियों को भी बोरिया मजूमदार के साथ बात करने से मना किया जाएगा।

क्या है मामला?

बीसीसीआई की तरफ से 19 फरवरी को श्रीलंका के खिलाफ टी-20 और टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का एलान किया गया था। लेकिन इसमें अनुभवी विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को जगह नहीं मिली। इसके बाद बोरिया मजूमदार ने साहा को व्हाट्सएप मैसेज कर इंटरव्यू की मांग की, जिसपर साहा ने कोई जवाब नहीं दिया था। फिर उन्हें मजूमदार की तरफ से अंजाम भुगतने की धमकियां दी गईं। साहा ने पूरी बात का स्क्रीनशॉट अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए अपनी नाराजगी जाहिर की थी।

मजूमदार ने क्या कहा था?

मजूमदार ने साहा को मेसेज करते हुए लिखा “मेरे साथ एक इंटरव्यू करिए, यह काफी अच्छा होगा। अगर आप लोकतांत्रिक रहना चाहते हैं तो मैं दबाव नहीं बनाऊंगा। वो एक विकेटकीपर चुनते हैं, जो सबसे बेहतर होता है। आप 11 पत्रकार चुनने की कोशिश करते हैं, जो मेरे हिसाब से सही नहीं है। उसे चुनिए जो सबसे ज्यादा आपकी मदद कर सकता है।” बाद में मजूमदार ने लिखा था, “आपने फोन नहीं किया। मैं फिर कभी आपका इंटरव्यू नहीं करूंगा। मैं अपमान नहीं सहता और मैं इसे याद रखूंगा। ऐसा आपको नहीं करना चाहिए था।”

साहा ने इस बातचीत के स्क्रीनशॉट अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा किए थे। इसके बाद क्रिकेट जगत के कई दिग्गजों ने साहा का समर्थन किया और बीसीसीआई से इस मामले में कार्रवाई करने की मांग की थी। बीसीसीआई ने तीन सदस्यों की समिति बनाई, जिसने पूरे मामले की जांच की। इसी दौरान यह खुलासा हुआ कि बोरिया मजूमदार ही वो पत्रकार थे, जिन्होंने साहा को धमकी दी थी थी। साहा फिलहाल आईपीएल खेलने में व्यस्त हैं। वह गुजरात टाइटंस टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

 

22 Views

You cannot copy content of this page