लाटरी से चमकी स्कूल बच्चों की किस्मत

 

जिले के सभी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल में कक्षा पहली में दाखिला आफलाइन लाटरी निकाली गई। लाटरी से बच्चों की किस्मत चमक गई। कक्षा पहली के 50 सीट है। पालकों की मौजूदगी में लाटरी निकाली गई।

कवर्धा। जिले के सभी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल में कक्षा पहली में दाखिला आफलाइन लाटरी निकाली गई। लाटरी से बच्चों की किस्मत चमक गई। कक्षा पहली के 50 सीट है। पालकों की मौजूदगी में लाटरी निकाली गई। लाटरी को लेकर पालकों में उत्साह दिखा। वहीं बच्चों का नाम नहीं निकलने पर कुछ पालकों में मायूसी भी दिखी। बारी-बारी से पालकों ने लाटरी निकाली।

लाटरी के बाद बच्चों को सीट आवंटित कर दी गई है। जल्द ही प्रवेश प्रकिया शुरू होगी।स्कूल प्रबंधन लाटरी में जिन बच्चों का नाम आया है उनकी सूची तैयार करने में जुट गया है। स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी मीडियम स्कूल में बच्चों को पढ़ाने अभिभावकों में होड़ मची हुई है। अन्य कक्षाओं की लाटरी 11 व 12 मई को निकाली गई।

50 सीटों के लिए एक हजार से अधिक आवेदन आए थे। लगभग 50 प्रतिशत आवेदन निरस्त हो गए। जिसकी जानकारी पालकों को नहीं थी। जानकारी के अभाव में पालक लाटरी में शामिल होने आए थे। लेकिन लाटरी में बच्चों का नाम नहीं होने पर मायूस होकर लौट गए।

लाटरी के माध्यम से बच्चों को सीटों का आवंटन कर दिया गया है। निर्धारित समय पर दाखिला नहीं लेने वाले बच्चों के स्थान पर अन्य बच्चों को मौका दिया जाएगा। इसके लिए फिर से लाटरी सिस्टम अपनाया जाएगा। लाटरी में बच्चों का नाम आने के बाद अभिभावकों के चेहरे खिल उठे। बता दें कि स्कूल में एक बार दाखिला लेने के बाद बच्चा 12वीं तक की पढ़ाई आसानी से कर सकेगा।

लाटरी के दौरान जिला प्रशासन के अफसर भी रहे

लाटरी के दौरान किसी भी प्रकार से गड़बड़ी न हो, इसे देखते हुए जिला प्रशासन के अफसर मौजूद थे। वैसे जिले में कवर्धा, बोड़ला, पंडरिया, सहसपुर लोहारा में यह स्कूल है। आवेदक पालकों, बच्चों, महिलाओं, जनप्रतिनिधियों ने बारी- बारी से स्टील ड्रम में हाथ डालकर टोकन निकाला जो ऊपर से कपड़े द्वारा ढंका था और निकाले गए टोकन अनुसार बच्चे एवं पालक की जानकारी सभी के समक्ष दी गई। इस लाटरी प्रक्रिया में नियमानुसार बीपीएल एवं आर्थिक रूप से कमजोर संवर्ग को 25 प्रतिशत सीटों में प्राथमिकता दी गई। तथा प्रत्येक कक्षा में 50 प्रतिशत बालक एवं पचास प्रतिशत बालिका हो यह सुनिश्चित करते हुए निष्पक्ष प्रवेश प्रक्रिया (लाटरी कार्य) पूर्ण की गई। इस प्रकार लाटरी प्रक्रिया के माध्यम से छठवीं की 10 सीटों, सातवीं में 10 सीटों, आठवीं में 10 सीटों के लिए टोकन आधारित लाटरी निकाली गई।

10 दिनों के भीतर प्रक्रिया करनी होगी पूरी

लाटरी प्रक्रिया चयनित छात्र‑छात्राओं को निर्धारित 10 दिनों के भीतर स्कूल में बच्चों के आवश्यक दस्तावेज जमा करने के साथ सभी प्रक्रियाएं पूरी करनी होगी। स्कूल प्रबंधन ने बताया कि लॉटरी प्रक्रिया में चयनित बच्चों के अभिभावकों को फोन से सूचना दी जाएगी। निर्धारित समय के भीतर प्रक्रिया पूरी नहीं करने पर वेटिंग सूची में शामिल बच्चों को अवसर मिलेगा। वेटिंग सूची में बच्चों को शामिल किया गया है।

 

25 Views

You cannot copy content of this page